Loading...
Home / Health & Beauty / पुरुषों में थकान और कमज़ोरी: कारण और उपचार (Low Energy In Men)

पुरुषों में थकान और कमज़ोरी: कारण और उपचार (Low Energy In Men)

आजकल की भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में थकान होना आम बात है। अक्सर जब लोग डॉक्टर के पास जाते हैं तो इसकी समस्या की शिकायत करते हैं।

हम में से अधिकांश लोग कम ऊर्जा का अनुभव करते हैं। थकान कोई बीमारी नही है लेकिन बीमारी का लक्षण जरूर है। कई व्यक्तियों को विविध कारण से थकान का अनुभव होता है। दिन ढलने के बाद जो थकान होती है वो वैसी ही लगती है जैसे किसी बीमारी में हो  ।  अधूरी नींद या तनाव से होने वाली थकान,नींद पूरी होने से खत्म हो जाती है पर थकान अगर किसी बीमारी की वजह से है तो वो आसानी से नही ठीक होती। .

शारीरिक और मानसिक थकान और कम ऊर्जा किसी बीमारी का लक्षण भी हो सकता है। विशेष रूप से, पुरुषों में अगर ये समस्या होती है तो इसके लिए उनका यूनिक फैक्टर(कुछ खास वजह) जिम्मेदार हो सकता है।

टेस्टोस्टेरोन का गिरना

टेस्टोस्टेरोन नाम के हॉर्मोन का स्तर पुरुषों में वयस्कता और किशोरवस्था के प्रारंभिक चरणों में सबसे अधिक सक्रिय होता है। जैसे -जैसे पुरूषों की उम्र बढ़ती है खासकर जब उनकी उम्र ४० के आसपास होती है तो ,उनके टेस्टोस्टेरोन का स्तर प्रति वर्ष 1% कम होता जाता है। साफ तौर पर नही कहा जा सकता है की इस हॉर्मोन के गिरने की  वजह क्या है, उम्र बढ़ने की वजह से इसका स्तर गिर रहा है या ह्य्पोगोनाडिस्म जैसी बीमारी भी इसकी वजह हो सकती है। टेस्टोस्टेरोन में गिरावट से सेक्स ड्राइव यानि सेक्स में रुचि कम हो जाती है और नींद संबंधी विकार भी हो सकते हैं, जो थकान और कम ऊर्जा के  लिए भी जिम्मेदार होते हैं।

इसके लिए बेतहर ये होगा की अपने डॉक्टर से सलाह लें, टेस्टोस्टेरोन का स्तर जांचने के लिए रक्त परीक्षण कराया जा सकता है। थकान और कम ऊर्जा के लक्षणों को ठीक  करने के लिए टेस्टोस्टेरोन थेरपी भी अब उपलब्ध है

थायराइड की समस्या

थायराइड हार्मोन का स्तर कम होने पर भी शरीर की ऊर्जा का स्तर बिगड़ सकता है। सामान्य तौर पर थायराइड की समस्या औरतों को होती हैं , मगर कई बार ये दिक्कत पुरुषों को भी आ सकती है। पुरुषों में अगर ऐसी समस्या होती है तो समय पर ध्यान देना अनिवार्य है वरना ये गम्भीर समस्या भी हो सकती है।

हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण

  • थकान
  • कब्ज
  • ठंड लगना
  • शुष्क त्वचा या त्वचा का रूखापन
  • मांसपेशियों में दर्द
  • बालों का झड़ना
  • अवसाद

ओवरएक्टिव थायराइड या हाइपर्थाइरॉइडिज़म भी थकान के लिए जिम्मेदार हो सकता है।

लोहा/आयरन

रक्ताल्पता(खून की कमी ) और विशेष रूप से शरीर में लौह तत्वों की कमी से एनीमिया, पुरुषों और महिलाओं में थकान और कम ऊर्जा की वजह हो सकती  है। अक्सर रक्तदान और शाकाहारी भोजन करने से पुरुषों में लौह की कमी (आयरन की कमी) हो जाती है।

खून की कमी के ये  लक्षण हो सकते हैं : सुस्ती, सांस की तकलीफ, पिली त्वचा , सिर दर्द, पैर और हाथ में झुनझुनी होना ।

डिप्रेशन

किसी को भी अवसाद आज के दौर में हो सकता है। अवसाद के लक्षण में उदासी ,सुस्त रहना, निराश रहना, नींद ना आना , किसी काम में  मन न लगना और ऊर्जा स्तर भी कम हो सकता  है। जिसे भी अवसाद की  समस्या हो उसे अपना इलाज़ जरूर कराना चाहिए वरना यह खतरनाक हो सकता है और यहां तक कि मरीज आत्महत्या की भी कोशिश कर सकता है।

नींद संबंधी बीमारी

नींद न आना या नींद की गुणवत्ता की कमी के कारण भी ऊर्जा के स्तर में कमी आती है। कम ऊर्जा के स्तर के लिए नींद भी जिम्मेदार होती है अगर आप नाईट शिफ्ट करते हैं, देर रात तक जागते हैं आदि तो भी ये दिक्कत आती है।

व्यायाम और उचित आहार का अभाव
व्यायाम और सही खान-पान की कमी के कारण भी थकान और ऊर्जा का स्तर कम हो सकता है। नियमित रूप से व्यायाम करने से  अच्छी नींद आती है और जीवनशैली में भी सुधार आता है।

सही और पौष्टिक आहार सबके लिए जरुरी है मगर इस समस्या में इसका खास ध्यान रखना चाहिए। रोज के खाने में साबुत अनाज, ताजे फल, सब्जियां और प्रोटीन को अपने आहार में जरूर शामिल करें। रोज बहुत सारा पानी पियें। इसके साथ ही रेडीमेड खाना और तला हुआ भोजन खाने से बचें।

डॉक्टर की लें सलाह

यदि आपको जरूरत से ज्यादा थकान और कमजोरी महसूस हो रही है और इसका असर आपके रोज़ाना के काम को प्रभावित कर रहा है , तो तत्काल डॉक्टर की सलाह लें। ऐसा भी हो सकता है की आप किसी गंभीर स्वास्थ्य संबंधी बीमारी से पीड़ित हों। असली वजह और कारण, डॉक्टर ही जाँच और टेस्ट के बाद बता पायेगा।

Source : modasta.com

Comments

comments

Leave a Reply